डीटीसी में तैनात मार्शल, ड्राइवर और कंडक्टर की सूझबूझ से न केवल एक संदिग्ध मरीज को वक्त पर अस्पताल पहुंचाया जा सका बल्कि कोरोना संक्रमण के खतरे से भी सभी को बचा लिया गया। कर्मियों ने संदिग्ध मरीज को बस में सफर करने देने की बजाय एंबुलेंस और पुलिस के जरिए मरीज को अस्पताल भिजवाया। लॉकडाउन के दौरान पहचान पत्र देखने के बाद ही बसों में प्रवेश का मौका दिया जा रहा है।

डीटीसी में तैनात मार्शल, ड्राइवर और कंडक्टर की सूझबूझ से न केवल एक संदिग्ध मरीज को वक्त पर अस्पताल पहुंचाया जा सका बल्कि कोरोना संक्रमण के खतरे से भी सभी को बचा लिया गया।




कर्मियों ने संदिग्ध मरीज को बस में सफर करने देने की बजाय एंबुलेंस और पुलिस के जरिए मरीज को अस्पताल भिजवाया। लॉकडाउन के दौरान पहचान पत्र देखने के बाद ही बसों में प्रवेश का मौका दिया जा रहा है। 



Popular posts
नरेला से नजफगढ़ के बीच रूट नंबर 708 पर चलने वाली डीटीसी की एसी बस को डिचाऊं कला के पास जय विहार बस स्टॉप के पास एक व्यक्ति ने रुकवाया। उसके साथ दो महिलाएं भी थीं।
पुलिस ने जारी किया मरकज का वीडियो
नागपुर से मरकज आए 54 लोगों की हुई पहचान महाराष्ट्र के नागपुर से निजामुद्दीन मरकज में 54 लोग पहुंचे थे जिनकी पहचान कर उन्हें क्वारंटीन में भेज दिया गया है। इस बात की पुष्टि नागपुर नगर निगम के कमिश्नर तुकाराम मुंडे ने की है।
मरकज भवन किया जा रहा सैनिटाइज दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज भवन जहां मार्च माह में तबलीगी जमात का आयोजन हुआ था, उसे अब सैनिटाइज किया जा रहा है। इससे पहले आज सुबह से निजामुद्दीन इलाके में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा था।