तीन मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेजा गया शरजील इमाम
NEWS


" alt="" aria-hidden="true" />जामिया नगर के दंगों में जेएनयू के छात्र शरजील इमाम की भूमिका सामने आने के बाद उसे एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया था। जिसके बाद मंगलवार को दोबारा साकेत कोर्ट ने उसे 3 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।


ये है पूरा मामला, जामिया नगर में बड़े दंगे के लिए शरजील ने उकसाया
13 दिसंबर को हुई हल्की-फुल्की पत्थरबाजी से शरजील खुश नहीं था। ऐसे में उसने जामिया नगर में बड़ा दंगा करने के लिए लोगों को उकसाया। जामिया नगर में पहली बार माहौल शरजील इमाम की वजह से ही खराब हुआ था। उसने 13 दिसंबर को जामिया नगर में दो बार भड़काऊ भाषण दिया था। वह शाहीन बाग में 15 दिन से ज्यादा तक रहा था। दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने उसकी आवाज के सैंपल ले लिए हैं। 

अपराध शाखा के एक अधिकारी ने बताया कि शरजील 13 दिसंबर को सुबह जामिया नगर पहुंच गया था। उसने जामिया नगर में दोपहर को भाषण दिया। शाम को उसने फिर भड़काऊ भाषण दिया। इससे लोग भड़क उठे। उन्होंने पुलिस पर काफी देर तक पथराव किया था।

पथराव के दौरान शरजील जामिया नगर में अंदर चला गया था। 13 दिसंबर के दंगे की एफआईआर जामिया नगर थाने में दर्ज है। शरजील 14 दिसंबर को भी जामिया नगर आया था। 15 दिसंबर को उसने शाहीन बाग में भड़काऊ भाषण दिया। पुलिस अधिकारी मान रहे हैं कि शरजील के शाहीन बाग में दिए भड़काऊ भाषण की वजह से 15 दिसंबर को जामिया नगर में दंगे हुए थे। हालांकि उस दिन वह जामिया नगर में नहीं था। वह रात में जेएनयू चला गया था। 


पुलिस अधिकारियों के अनुसार, 15 दिसंबर के बाद शरजील शाहीन बाग में दो जनवरी तक रहा था। पूछताछ में पता चला है कि शाहीन बाग का धरना-प्रदर्शन शरजील के भड़काऊ भाषणों के बाद शुरू हुआ था। पुलिस ने 13 दिसंबर को हुई एफआईआर में शरजील को गिरफ्तार किया है।

अपराध शाखा के अधिकारियों के अनुसार, जामिया नगर दंगे के मामले में अब तक जो आरोपी गिरफ्तार हुए हैं, उनसे फिर से पूछताछ की जाएगी। उनसे शरजील के बारे में पूछा जाएगा। दूसरी तरफ, अपराध शाखा की एसआईटी ने शरजील की आवाज के सैंपल ले लिए हैं। जामिया नगर व शाहीन बाग में दिए गए भड़काऊ भाषण की आवाज से इनका मिलान कराया जाएगा। पुलिस ने सैंपल फोरेंसिक जांच के लिए भेज जल्द ही रिपोर्ट मांगी है।



Popular posts
पुलिस ने जारी किया मरकज का वीडियो
नागपुर से मरकज आए 54 लोगों की हुई पहचान महाराष्ट्र के नागपुर से निजामुद्दीन मरकज में 54 लोग पहुंचे थे जिनकी पहचान कर उन्हें क्वारंटीन में भेज दिया गया है। इस बात की पुष्टि नागपुर नगर निगम के कमिश्नर तुकाराम मुंडे ने की है।
ड्यूटी पर मुस्तैद मार्शल कंवरजीत ने उनसे पूछा कहां जाना है, पहचान पत्र दिखाएं। जवाब में संदिग्ध मरीज और साथ मौजूद महिलाओं ने बताया कि सुबह से करीब साढ़े तीन घंटे से एंबुलेंस का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन नहीं आई।
मरकज में जो कुछ भी हुआ वह गलत : आरिफ मोहम्मद खान 
मरकज भवन किया जा रहा सैनिटाइज दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज भवन जहां मार्च माह में तबलीगी जमात का आयोजन हुआ था, उसे अब सैनिटाइज किया जा रहा है। इससे पहले आज सुबह से निजामुद्दीन इलाके में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा था।