जेएनयू बना भारत विरोधियों का अड्डा सत्ता के लिये कर रहें इनका इस्तेमाल

जो जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय अच्छी शिक्षा के लिये जाना जाता था वो अब राजनीति करने वाले राजनीति सिखाने वालो तथा भारत विरोधी नारे लगाने वालो का अड्डा बन चुका है।


करीब पिछले 30 सालो से यह सिलसिला चल रहा है। इस विश्वविद्यालय में वामपन्थी विचारधारा का बोलबाला रहा है। जो रूस एंव चीनी कोमनिस्टो को सपोर्ट करते है। ये कोमनिस्ट माइंडिड लोग अपने विचारो से अलग विचार रखने वालो का सहन नहीं कर पाते है। इनकी विचारधारा को भारत विरोधी तत्व पालने पोसने का काम करते है। जो काम मुस्लिम समाज अपने से अलग विचार रखने वालो को अपना दुश्मन मानते है उसी प्रकार से ये भी ऐसा ही करते है।


इस विश्वविद्यालय में भारत विरोधी गैंग यानी भारत के टुकड़े-टुकड़े होगे हजार का नारा लगाने वाले तत्वो को देश की सत्ता चाहने वाले नेता अपना पूरा समर्थन करते है। जब से भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र में सरकार बनी है। तब से ही ये देश को तोड़कर देश में आग लगाकर देश की शिक्षा व्यवस्था को नष्ट करके देश में अराजकता फैलाकर दुबारा सत्ता पाना चाहते है।


खासकर कांग्रेस पार्टी के नेतागण राहुल गांधी, सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी एंव काग्रेस के प्रायः सभी नेतागण एंव सभी विरोधी पार्टीयो के नेतागण चाहे ममता बनर्जी हो चाहे अखिलेश यादव हो मुलायम सिंह यादव हो मायावती हो या लालू यादव हो शरद यादव हो शरद पवार हो एंव अन्य नेतागण देश में आराजकता फैलाकर देश की सत्ता हथियाना चाहते है जो सम्भव नही है। इन तमाम नेताओ ने पिछले 70 सालो में जनता के लिये कोई काम नही किया सिर्फ अपनी सत्ता पर पकड़ बनाये रखने के लिये या दुबारा सत्ता हासिल करने के लिये ही तमाम तिकडमो का इस्तेमाल करने की कोशिश की है।


सीएए का विरोध करने का एक मात्र कारण इनका मोदी विरोध ही हैइनको पाकिस्तान में, बांग्लादेश में, गैरमस्लिमो पर होने वाले अत्याचार नही दिखाई देते बहन बेटियो के साथ बलात्कार की होने वाली घटना नही दिखाई देती हिन्दु बहन बेटियो की जबरन अगवा करके उनका धर्म परिवर्तन कराके उनको मुसलमान बनाने की जबरन कोशिश नही दिखाई देती इन्हे तो सिर्फ मोदी विरोध ही दिखाई देता है इन्हे सिर्फ देश की सत्ता दिखाई देती है।


ये कैसे हिन्दु है ये कैसे हिन्दु नेता है। जो अपने हिन्दु माताओ बहनो भाइयो पर होने वाले जुल्म अत्याचार दिखाई नहीं देते


जो अपने देश का वफादार नही हुआ वो गद्दार होता है। जो अपनी कोम का वफादार नही हुआ उसे भी गद्दार कहते है। इसी कारण से आजतक देश पर दुश्मनी का शासन रहा है। और यदि यही हाल रहा तो आने वाले सालो में दुबारा भारत गुलाम हो जायेगा।


- मोदी या भारतीय जनता पार्टी कब तक इन देश विरोधी तत्वो से गद्दारो से भारत की अस्मिता-अखाण्डता की रक्षा करेगी।


- पृथ्वीराज चौहान द्वारा मौहम्मद गौरी से जयचन्द जैसे गद्दारो के कारण जिसने सत्ता के लिये पृथ्वीराज चौहान के साथ गद्दारी की।


- रानी झांसी लक्ष्मीबाई द्वारा अंग्रेजो से आपसी फूट तथा आपसी राजाओ की गद्दारी के कारण हारी।


- वीर शिवाजी भी हारे हिन्दु राजाओ की गद्दारी के कारण जिन्होने अपनी सत्ता बचाने के लिए अंग्रेजो का साथ दिया और वीर शिवाजी का विरोध किया।


- माहाराणा प्रताप भी हारे आपसी हिन्दु राजाओ की गद्दारी के कारण जिन्होने सत्ता बचाने के लिए या सत्ता पाने के लिये माहाराणा प्रताप का विरोध करके अकबर का साथ दिया


- इसी सत्ता के चाह में जवाहर लाल नेहरू ने देश का बंटवारा करा दिया जिसका दर्द अब भी देश का आम आदमी भुगत रहा है। जिस कारण पाकिस्तान से भागकर आने वाले हिन्दु-सिख-जैन-इसाई भारत आ रहे है। और मोदी सरकार उनको भारत की नागरिकता देने की बात करती है तो ये नेतागण इसका विरोध कर रहे अनपढ़ गवार तथा मुस्लिम भाइयो को इनके विरोध में भड़काया जा रहा है। कि इसके लागू होने पर आपकी नागरिकता खत्म हो जायेगी जबकि इससे इनका कोई लेना देना नही है। ये कानून सिर्फ उन नागरिको को भारत की नागरिकता प्रदान करने के लिये ही बना है जो पाकिस्तान से या बांग्लादेश से आये है।


जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय यानी जे.एन.यू में पलने वाले देश विरोधी टुकड़े-टुकड़े गैंग के छात्रगण इन भाजपा विरोधी नेताओ की राजनीति का शिकार हो रहे है। देशहित के बजाय भाजपा विरोध तथा मोदी विरोध का काम एक सुनियोजित तरीके से हो रहा है।


इन नेताओ को कौन समझाये कि देश हित के बजाय देश विरोधी ताकतो का सहयोग करना कितना घातक होगा। ये विरोध इनका ही अन्त कर देगा।


देश की जनता सब देख रही है सब समझ रही है। कि मोदी ने भारतीय जनता पार्टी ने देश की गरीबो के लिये देश को मुस्लिम महिलाओ के लिये तथा देशहित में क्या क्या काम किये है।


जो मुस्लिम समाज कभी इनकी विभाजनकारी नीतियों के झांसे में आकर वोट देता था आज सब समझ रहा है। इसी कारण से इनके पेट में दर्द हो रहा है कि मोदी ऐसा क्यो कर रहा है। मोदी के ऐसा करने से हमारी राजनीति तो चौपट हो जायेगी हमारी सत्ता पाने की चाहत भी खत्म हो जायेगी ऐसा हो जानके पहले ही क्यो ना मोदी को भारतीय जनता पार्टी को बदनाम करने इसके विरोध में माहौल बनाकर इसको सत्ता से बेदखल कर दो। जिस दिन मोदी या भारतीय जनता पाटी सत्ता से बाहर हो गई तो इनके मजे आ जायेगे।


ये नेतागण खासकर अरविन्द केजरीवाल तथा कांग्रेस के नेतागण जैसे कपिल सिब्बल जो आतंकवादियो को गण्डो को छडाने के लिये अपनी सेवाये देते है। सब जानते है। इनका देशप्रेम जनता प्रेम देश की सारी जनता देख रही है। यदि ये कांग्रेसी नेतागण देशहित में काम करते जनता हित में काम करते देश से गरीबी दूर करते देश की उन्नति के लिये काम करते तो देश की जनता इनकी सत्ता से बाहर क्यो करती है।


अरविन्द केजरीवाल पिछले साढ़े चार साल तक केन्द्र के विरोध में मोदी के विरोध में बोलते रहे उन्हे गाली देते रहे खुद कुछ नही किया मोदी को केन्द्र सरकार को दोष देते रहे अब चुनाव पास आने के कारण जनता को ऐसे लुभावनी घोषणा कर रहे हैकि देखते ही बनता है। जो टुकड़े टुकड़े गैंग को सपोर्ट करने जे.एन.यू. जाता हो जो भारत विरोधी ताकतो का सहयोग करता हो दिल्ली की जनता के लिये कुछ ना करता हो वो दोबारा सत्ता पाने के लिये भाजपा विरोध तथा मोदी विरोध का झण्डा उठाये घूम रहा है। जो अन्ना हजारे का सगा न हुआ वो किसी दूसरे का सगा कैसे हो सकता है। जिसने सत्ता पर पकड़ बनाये रखने के लिये अपने अनेकी सहयोगियो की पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया वो दिल्ली जनता का क्या भला करेगा। सत्ता के लिये गिरगिट की तरह रंग बदलने वाला अरविन्द केजरीवाल सबसे बड़ा झूठा-मक्कार-धोखेबाज नेता है। इन चुनावो के बाद सब पता चल जायेगा कि दिल्ली की जनता इसके द्वारा किये झूठे वायदों में आती है या नही।


देश इन भारत विरोधी नेताओ के कारण सत्ता के लालची नेताओं के कारण एक ऐसे दौर से गुजर रहा है। जिससे पार पाना ही असली अग्निपरीक्षा है। जो भारत हित की बात करेगी-जो जनता हित की बात करेगा - जो गरीबो की बात करेगा वो ही देश पर दिल्ली पर राज करेगा।



Popular posts
ड्यूटी पर मुस्तैद मार्शल कंवरजीत ने उनसे पूछा कहां जाना है, पहचान पत्र दिखाएं। जवाब में संदिग्ध मरीज और साथ मौजूद महिलाओं ने बताया कि सुबह से करीब साढ़े तीन घंटे से एंबुलेंस का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन नहीं आई।
पुलिस ने जारी किया मरकज का वीडियो
नागपुर से मरकज आए 54 लोगों की हुई पहचान महाराष्ट्र के नागपुर से निजामुद्दीन मरकज में 54 लोग पहुंचे थे जिनकी पहचान कर उन्हें क्वारंटीन में भेज दिया गया है। इस बात की पुष्टि नागपुर नगर निगम के कमिश्नर तुकाराम मुंडे ने की है।
मरकज में जो कुछ भी हुआ वह गलत : आरिफ मोहम्मद खान 
मरकज भवन किया जा रहा सैनिटाइज दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज भवन जहां मार्च माह में तबलीगी जमात का आयोजन हुआ था, उसे अब सैनिटाइज किया जा रहा है। इससे पहले आज सुबह से निजामुद्दीन इलाके में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा था।