बाल कविता- *चूहा* - मईनुदीन कोहरी













दो बाल कविताऐं

 

 

बाल कविता- *चूहा* -  मईनुदीन कोहरी

 

 

 

       *चूहा*

 

 

लुकते-छिपते धीरे धीरे ।

बार-बार आता चूहा ।।

 

कपड़ों के अंदर घुस जाता। 

कुतर-कुतर करता चूहा।।

 

जब तक नहीं पकड़ा जाता।

धमा चौकड़ी करता चूहा।।

 

चुन्नू - मुन्नू भागे-दौड़े ।

आंखें मटका डराता चूहा।।

 

दादी कहती पिंजरा लाओ।

तब जाकर मानेगा चूहा।।

 







                                                                                                             मईनुदीन कोहरी, नाचीज बीकानेरी, मो.9680868028


 

 



 



 


   














Popular posts
नरेला से नजफगढ़ के बीच रूट नंबर 708 पर चलने वाली डीटीसी की एसी बस को डिचाऊं कला के पास जय विहार बस स्टॉप के पास एक व्यक्ति ने रुकवाया। उसके साथ दो महिलाएं भी थीं।
पुलिस ने जारी किया मरकज का वीडियो
नागपुर से मरकज आए 54 लोगों की हुई पहचान महाराष्ट्र के नागपुर से निजामुद्दीन मरकज में 54 लोग पहुंचे थे जिनकी पहचान कर उन्हें क्वारंटीन में भेज दिया गया है। इस बात की पुष्टि नागपुर नगर निगम के कमिश्नर तुकाराम मुंडे ने की है।
मरकज भवन किया जा रहा सैनिटाइज दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज भवन जहां मार्च माह में तबलीगी जमात का आयोजन हुआ था, उसे अब सैनिटाइज किया जा रहा है। इससे पहले आज सुबह से निजामुद्दीन इलाके में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा था।