जब महात्मा गांधी को नहीं मिला था कन्याकुमारी के मंदिर में प्रवेश, छुआछूत नहीं कुछ और थी वजह

समानता का अधिकार और कथित नीची जाति के लोगों को मंदिर में प्रवेश दिलाने के लिए आंदोलन छेड़ने के कारण दुनिया भर में महात्मा गांधी को जाना जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि एक बार राष्ट्रपिता को अपने ही देश में मंदिर में प्रवेश करने से रोक दिया गया था। हैरानी की बात यह है कि उन्हें जाति-धर्म या छुआछूत के कारण नहीं रोका गया था। आगे पढ़िए क्या थी असली वजह: बात 1925 की है, जब इंग्लैड से लौटे गांधी ने कन्याकुमारी के अम्मान मंदिर में जैसे ही प्रवेश के लिए कदम बढ़ाया तो उन्हें रोक दिया गया। जिसके बाद उन्हें मंदिर के बाहर खड़े होकर पूजा-अर्चना करनी पड़ी थी। दरअसल इसके पीछे उनका धर्म या जाति वजह नहीं थी, बल्कि सात समंदर पार विलायत यात्रा पर जाने के कारण उन्हें मंदिर के अंदर जाने से रोका गया था। उन दिनों समुद्र पार कर विदेश जाने वालों को अछूत माने जाने की परंपरा थी। 


Popular posts
नरेला से नजफगढ़ के बीच रूट नंबर 708 पर चलने वाली डीटीसी की एसी बस को डिचाऊं कला के पास जय विहार बस स्टॉप के पास एक व्यक्ति ने रुकवाया। उसके साथ दो महिलाएं भी थीं।
पुलिस ने जारी किया मरकज का वीडियो
नागपुर से मरकज आए 54 लोगों की हुई पहचान महाराष्ट्र के नागपुर से निजामुद्दीन मरकज में 54 लोग पहुंचे थे जिनकी पहचान कर उन्हें क्वारंटीन में भेज दिया गया है। इस बात की पुष्टि नागपुर नगर निगम के कमिश्नर तुकाराम मुंडे ने की है।
मरकज भवन किया जा रहा सैनिटाइज दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मरकज भवन जहां मार्च माह में तबलीगी जमात का आयोजन हुआ था, उसे अब सैनिटाइज किया जा रहा है। इससे पहले आज सुबह से निजामुद्दीन इलाके में सैनिटाइजेशन का काम चल रहा था।